मातृभाषा सीखना: अपने बच्चे को मातृभाषा सिखाने के अद्भुत लाभ!

मातृभाषा का सीधा सा अर्थ है किसी व्यक्ति के अपने क्षेत्र या जातीय समूह की भाषा।

अतः प्रत्येक व्यक्ति को अपनी भाषा सीखनी अवश्य चाहिए।

यह महत्वपूर्ण है क्योंकि भाषा उनकी संस्कृति को दर्शाती है।

अपने बच्चे को मातृभाषा सिखाने के फायदों के बारे में जानने के लिए सबसे पहले हमें भाषा सीखने  के महत्व को जानना होगा।

ऐसी दुनिया में जहां वैश्वीकरण तेजी से हो रहा है, हर कोई बेहतर तरीके से अंग्रेजी सीखने का विकल्प चुन रहा है।

लेकिन लोग भूल रहे हैं कि उनको अपनी संस्कृति को याद रखना चाहिए और उसे संजोना चाहिए।

किसी संस्कृति की नींव उसकी अपनी भाषा होती है।

इसलिए अपनी संस्कृति से जुड़े रहने के लिए अपनी भाषा सीखें ।

मातृभाषा का महत्व

मातृभाषा का महत्व

अंग्रेजी एक सार्वभौमिक भाषा है और लोग इसे जल्द से जल्द सीखने का प्रयास करते हैं।

इस प्रक्रिया में, अन्य भाषाएँ अपना महत्व खो रही हैं।

लोग अन्य भाषाओं की अपेक्षा अंग्रेजी को प्राथमिकता दे रहे हैं।

यह माता-पिता के व्यवहार में भी स्पष्ट है।

आजकल अधिकांश माता-पिता अपने बच्चों को अंग्रेजी पढ़ाना पसंद करते हैं।

वे भाषा को विकसित करने के लिए उनके साथ उनके जन्म से ही अंग्रेजी में संवाद करते हैं।

इस प्रकार इन बच्चों को केवल एक ही भाषा और संस्कृति तक सीमित रखा जाता है जबकि  वह संस्कृति भी उनकी खुद की नहीं है।

चूंकि हमने मातृभाषा के महत्व पर चर्चा की है, आइए जल्दी से ब्लॉग के रोमांचक हिस्से पर जाएं!

आने वाले भागों में आप अपने बच्चे को मातृभाषा सिखाने के आश्चर्यजनक लाभों के बारे में जानेंगे।

मस्तिष्क में वृद्धि

मातृभाषा सीखने का सीधा संबंध बच्चों के मस्तिष्क के विकास से है।

शोध के अनुसार, जो बच्चे अपनी मूल भाषा सीखते हैं और स्कूल जाने से पहले एक मजबूत नींव का निर्माण करते हैं, वे अन्य भाषाओं में भी सफल होते हैं।

वे उन्हें अच्छी तरह पढ़ और लिख सकते हैं।

उनका मस्तिष्क अधिक सक्रिय रूप से और तेजी से कार्य करता है।

पेरेंटिंग विशेषज्ञ लिंडा हलगुनसेथ ने बताया है कि कैसे कई भाषाएं सीखना बच्चों के लिए फायदेमंद है।

ऐसे बच्चों में स्मृति, ध्यान और भाषा से संबंधित मस्तिष्क के क्षेत्रों में अधिक तंत्रिका गतिविधि और सघन ऊतक होते हैं।

इस तरह वे एकभाषी शिक्षार्थियों की तुलना में बेहतर स्थिति में हैं।

हालांकि, यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि एक बच्चे को एक समय में एक से अधिक भाषा सीखनी नहीं चाहिए।

इसका प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा।

शोध कहता है कि एक बच्चे के लिए एक से अधिक भाषा सीखने से सीखने की प्रक्रिया धीमी हो जाएगी।

चूंकि मस्तिष्क एक समय में दो भाषाओं को सीखने के बीच विभाजित होता है और इस प्रकार, इसे संसाधित करना मुश्किल हो जाता है।

फ्लोरिडा अटलांटिक यूनिवर्सिटी इसके बारे में क्या कहती है, इसके बारे में और जानने के लिए यहां क्लिक करें।

इस प्रकार, यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि कई भाषाएँ सीखना अच्छा है लेकिन सभी भाषाओं को एक साथ सीखना नहीं है! एक समय में एक ही भाषा सीखें !

भाषा सीखने से मस्तिष्क के विकास में मदद मिलती है
भाषा सीखने से मस्तिष्क के विकास में मदद मिलती है

मातृभाषा – मान्यता प्राप्त!

यदि आप मनुष्य से उस भाषा में बात करते हैं जिसे वह समझता है, तो वह उसके दिमाग में जाता है।

अगर आप उससे उसकी भाषा में बात करते हैं, तो वह उसके दिल में उतर जाता है।

-नेल्सन मंडेला

एक व्यक्ति अपनी मातृभाषा में अधिक स्पष्ट , सहज और आत्मविश्वासी होता है ।

वह विदेशी भाषा बोलकर अपने विचार अवश्य व्यक्त कर पाएगा लेकिन अपनी भाषा के प्रयोग से वह अधिक प्रभावशाली होगा।

और तो और, अगर कोई उसी भाषा में उत्तर देता है, तो इससे उसका आराम स्तर और भी बढ़ जाता है।

उदाहरण के लिए – यदि कोई गैर-ब्रिटिश अंग्रेजी बोलता है, तो वह सभी अंग्रेजों को देखकर घबरा सकता है, जबकि वही व्यक्ति अपनी मातृभाषा में मूल निवासियों से बात करते समय अधिक सहज और आत्मविश्वासी होगा।

कहने की जरूरत नहीं है कि कि इससे संबंध भी और अच्छे होंगे ।

तो, आपके बच्चे के साथ भी ऐसा ही होता है जब वे अपनी मातृभाषा सीखते हैं।

यदि वे अपनी ही भाषा बोलने वाले एक या दो व्यक्तियों से मिलते हैं, तो वे आसानी से बंध जाते हैं और एक दूसरे के स्तंभ बन जाते हैं!

रिश्तों में सुधार

रिश्ते जीवन का एक अनिवार्य हिस्सा हैं जिसे कोई भी नकार नहीं सकता है।

मातृभाषा एक रिश्ते की तरह होती है।

रिश्तों में पुरानी यादें होती हैं और भाषा पुरानी यादों को संप्रेषित करने में मदद करती है।

हर रिश्ता किसी न किसी मोड़ पर अपनी मातृभाषा की यादों से बंधा होता है।

मनोवैज्ञानिक भी मानते हैं कि माता-पिता, शिक्षकों या देखभाल करने वालों के साथ संबंधों को मजबूत करने में भाषा महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

मातृभाषा के माध्यम से मजबूत संबंध
मातृभाषा के माध्यम से मजबूत संबंध

उदाहरण के लिए – बचपन में आपको अपनी मातृभाषा में कई कहानियाँ सुनाई जाती थीं।

आपके माता-पिता ने आपको आपकी अपनी भाषा के अनोखे शब्दों से लाड़-प्यार किया।

इस प्रकार आपके माता-पिता ने अपनी मातृभाषा के माध्यम से आपसे अपने प्यार का इजहार किया।

यह सब पुरानी यादों का एक प्रमुख हिस्सा है – मातृभाषा, जो आपकी सभी यादों को वापस लाती है।

इस प्रकार, अपने बच्चे को अपनी मातृभाषा सिखाने से आपको अपने बच्चे के साथ बेहतर ढंग से जुड़ने में मदद मिलेगी!

मातृभाषा संस्कृति की रक्षा करती है ।

मातृभाषा संस्कृति की रक्षा करती है
मातृभाषा संस्कृति की रक्षा करती है

इस दुनिया में जहां रोज नए-नए अविष्कार हो रहे हैं, लोग तेजी से अपनी संस्कृति को भूल रहे हैं।

लोग अपनी संस्कृति के रीति-रिवाजों की बात करने और उन्हें निभाने में कभी-कभी शर्मिंदा भी होते हैं।

अब, भाषा किसी भी संस्कृति में एक अच्छा हिस्सा बनती है।

इस प्रकार एक व्यक्ति के लिए अपनी संस्कृति को जारी रखने और संरक्षित करने के लिए अपनी मातृभाषा सीखना महत्वपूर्ण है।

आजकल बहुत से लोग अपनी भाषा सीखना पसंद नहीं करते हैं क्योंकि उन्हें लोगों के बीच इसे बोलने में शर्म आती है।

लेकिन लोगों को अपनी मातृभाषा सीखनी चाहिए और गर्व से इसका इस्तेमाल करना चाहिए।

साथ ही उन्हें अपनी संस्कृति पर गर्व व्यक्त करने के लिए उसी भाषा का इस्तेमाल करना चाहिए।

आज का युवा कल का भविष्य बनने जा रहा है और हमें अपने बच्चों को मातृभाषा सिखानी चाहिए ताकि वे गर्व से अपनी संस्कृति को भविष्य में संजो सकें और संरक्षित कर सकें।

भाषा में मातृभाषा का प्रयोग कैसे करें?

भाषा में मातृभाषा का प्रयोग कैसे करें?

विविधता और समावेश अधिक स्पष्ट :

उभरते समय के साथ, विविधता और समावेश की अवधारणा को दिन-ब-दिन अधिक समर्थन मिल रहा है।

माता-पिता को भी इस अवधारणा को विकसित करना चाहिए।

यह बच्चों में तब पैदा किया जा सकता है जब वे समाज में एक ही श्रेणी के विभिन्न क्षेत्रों की खोज कर सकें।

इस प्रकार भाषा एक ऐसी चीज है जो भाषाओं की कई लिपियों को अपने साथ समेटे हुए एक विशाल छत्र है, जो संस्कृति को अपने साथ ले जाती है।

इसलिए, जब कोई बच्चा अपनी भाषा और उसके महत्व को सीखता है, तो वह दूसरों की भाषा का भी उतना ही सम्मान करेगा जितना कि वह अपनी भाषा का सम्मान करता है।

अपनी मातृभाषा सीखने के बाद वे दुनिया की भाषाओं और संस्कृतियों की सराहना करेंगे।

मुख्य उद्देश्य अपने बच्चे को मतभेदों को स्वीकार करने और उनका सम्मान करने के लिए प्रोत्साहित करना है और उन्हें यह एहसास दिलाना है कि विविधता में एकता है और इस तरह इसे प्रोत्साहित करना अधिक आसान है।

संक्षेप में, भाषा अनिवार्य रूप से बातचीत करने का एक माध्यम है लेकिन अपनी मातृभाषा में बातचीत करने से वक्ता के लिए यह सहज हो जाता है, और भावनाओं को व्यक्त करने में आसानी होती है।

इस प्रकार, अपने बच्चे को अपनी मातृभाषा सीखाना बहुत महत्वपूर्ण है! पोडियम स्कूल आपके बच्चों को भाषाएं आसानी से और दिलचस्प तरीके से सीखने और तलाशने के लिए कई तरह के पाठ्यक्रम और वर्कशीट प्रदान करता है!

इसके बारे में अधिक जानने के लिए इसे पोडियम स्कूल की वेबसाइट पर देखें।

हमारी अगली श्रृंखला के लिए हमारे साथ बने रहें! हम अभी वापस आ जाएंगे!


अधिक जानकारी के लिए पोडियम स्कूल जाएँ

Share with your friends

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *