सदी के महान वैज्ञानिक जिनको दुनिया करती है सलाम |

अपनी  बुद्धिमता से दुनिया को अनूठे तोहफे देने वाले वैज्ञानिक अक्सर अजीब आदतों  के शिकार होते है .शुरुवाती

दिनों मे कई इन्हे ताने भी देते है कई इन्हे सनकी ,पागल और नाकारा तक समझते है |

लेकिन जब इन लोगो ने अपनी मेहनत से अपनी काबिलियत का परिचय दिया तो दुनिया में कई स्तर पर परिवर्तन

आ गया|

वैज्ञानिक वह होता है जो किसी विशेष क्षेत्र में ज्ञान बढ़ाने के लिए वैज्ञानिक अनुसंधान करता है।

थेल्स (624-545 ईसा पूर्व) यह वर्णन करने वाले पहले वैज्ञानिक थे कि कैसे ब्रह्मांडीय घटनाओं को प्राकृतिक घटनाओ के रूप में देखा जा सकता है | जरूरी नहीं कि वे देवताओं के कारण हों |

आज हमने यहाँ 10 प्रसिद्ध वैज्ञानिकों को सूचीबद्ध किया है जिन्होंने विज्ञान और गणित में अपने जबरदस्त योगदान के कारण व्यापक वैश्विक खियति प्राप्त की है।

आइये हम ऐसे ही कुछ महान वैज्ञानिकों के जीवन के कुछ रोचक व प्रेरणादायक तथ्य जानते हैं

अल्बर्ट आइंस्टीन (1879-1955 ई.)

अल्बर्ट आइंस्टीन (1879-1955 ई.)
अल्बर्ट आइंस्टीन (1879-1955 ई.)

आल्बर्ट आइन्स्टाइन एक विश्वप्रसिद्ध सैद्धांतिक भौतिकविद् थे जो सापेक्षता के सिद्धांत और द्रव्यमान-ऊर्जा समीकरण E = mc² के लिए जाने जाते हैं।

उन्हें सैद्धांतिक भौतिकी, खासकर प्रकाश-विद्युत ऊत्सर्जन की खोज के लिए 1921 में नोबेल पुरस्कार प्रदान किया गया।

अल्बर्ट आइंस्टीन का जन्म 14 मार्च सन 1879 को जर्मनी के उल्म शहर में हुआ. वह जर्मनी के म्युनिच शहर में बड़े हुए और इनकी शिक्षा का आरम्भ भी यही से हुआ.

वे बचपन में पढ़ाई में बहुत ही कमजोर थे और उनके कुछ अध्यापकों ने उन्हें मानसिक रूप से विकलांग कहना शुरू कर दिया. 9 साल की उम्र तक वे बोलना नही जानते थे.

वे प्रक्रति के नियमों, आश्चर्य की वेदना का अनुभव, कंपास की सुई की दिशा आदि में मंत्रमुग्ध रहते थे.

उन्होंने 6 साल की उम्र में सारंगी बजाना शुरू किया और अपनी पूरी जिन्दगी में इसे बजाना जारी रखा.

12 साल की उम्र में इन्होंने ज्यामिति की खोज की एवं उसका सजग और कुछ प्रमाण भी निकाला.

16 साल की उम्र में, वे गणित के कठिन से कठिन हल को बड़ी आसानी से कर लेते थे.

जर्मनी में जब हिटलर शाही का समय आया, तो अल्बर्ट आइंस्टीन को यहूदी होने के कारण जर्मनी छोड़ कर अमेरिका के न्यूजर्सी में आकर रहना पड़ा.

अल्बर्ट आइंस्टीन वहाँ के प्रिस्टन कॉलेज में अपनी सेवाएं दे रहे थे और उसी समय 18 अप्रैल 1955 में उनकी मृत्यु हो गई.

सर आइज़ैक न्यूटन (1643-1727 ई.)

सर आइज़ैक न्यूटन (1643-1727 ई.)
सर आइज़ैक न्यूटन (1643-1727 ई.)

न्यूटन इंग्लैंड के एक वैज्ञानिक थे। जिन्होंने गुरुत्वाकर्षण का नियम और गति के सिद्धान्त की खोज की।

वे एक महान गणितज्ञ, भौतिक वैज्ञानिक, ज्योतिष एवं दार्शनिक थे। इनका शोध प्रपत्र ‘प्राकृतिक दर्शन के गणितीय सिद्धांतों ’ 

सन् 1687 में प्रकाशित हुआ, जिसमें सार्वत्रिक गुरुत्वाकर्षण एवं गति के नियमों की व्याख्या की गई थी और इस प्रकार चिरसम्मत भौतिकी (क्लासिकल भौतिकी) की नींव रखी।

उनकी फिलोसोफी नेचुरेलिस प्रिन्सिपिया मेथेमेटिका, 1687 में प्रकाशित हुई, यह विज्ञान के इतिहास में अपने आप में सबसे प्रभावशाली पुस्तक है

जो अधिकांश साहित्यिक यांत्रिकी के लिए आधारभूत कार्य की भूमिका निभाती है।

आइजैक न्यूटन ने यांत्रिकी के नियमों के साथ-साथ गुरुत्वाकर्षण के सिद्धांत की स्थापना की, जो दर्शाता है कि ग्रह सूर्य की परिक्रमा कैसे करते हैं।

क्योंकि कोई अन्य सिद्धांत गुरुत्वाकर्षण के सिद्धांत की व्याख्या नहीं कर सका, उसने कैलकुलस तैयार किया।

न्यूटन ने श्वेत प्रकाश की संरचना भी विकसित की और गति के तीन नियमों की व्याख्या की।

मैरी क्यूरी (1867-1934 ई.)

मैरी क्यूरी (1867-1934 ई.)
मैरी क्यूरी (1867-1934 ई.)

मैडम क्यूरी दो अलग-अलग नोबेल पुरस्कार प्राप्त करने वाली दुनिया की पहली व्यक्ति हैं साथ ही नोबेल पुरस्कार प्राप्त करने वाली पहली महिला हैं।

रेडियोएक्टिविटी (radioactivity) की खोज के साथ-साथ एक्स-रे के क्षेत्र में इसके अनुप्रयोग में सहायता करने के लिए उन्हें 1903 में अपना पहला नोबेल पुरस्कार मिला, और रेडियम की खोज के लिए 1911 में उनका दूसरा नोबेल पुरस्कार मिला।

इसके अलावा, इन्होने दुनिया की पहली मोबाइल एक्स-रे मशीन बनाई, जिसने युद्ध के मैदान में घायल सैनिकों की सहायता की।

दुर्भाग्य से, 1934 में, वह अपनी ही रचना द्वारा मार दी गई थी।

आर्किमिडीज (287-212 ईसा पूर्व)

आर्किमिडीज (287-212 ईसा पूर्व)
आर्किमिडीज (287-212 ईसा पूर्व)

ग्रीक गणितज्ञ आर्किमिडीज, जिसे अब तक का सबसे महान गणितज्ञ माना जाता है, ने गणितीय भौतिकी(mathematical physics) और इंजीनियरिंग का पर्याप्त और प्रभावशाली ज्ञान विकसित किया जो आज भी मशीनों और उनके निर्माणों में व्यापक रूप से कम आता है ।

इसके अलावा, उन्होंने इनफिनिटिमल्स(infinitesimals) की अवधारणा को स्थापित किया और कैलकुलस की नींव रखी।

आर्किमिडीज ने पहली परिमित ज्यामितीय प्रगति (geometric progression) का भी ज्ञान दिया है |उन्होने एक गोले( sphere) और परवलयिक खंडों(parabolic segments) के क्षेत्रों(areas) और आयतनों(volumes) की गणना की।

उनके अन्य योगदानों में लेवर(laws of a lever) के नियमों की खोज, घनत्व, द्रव संतुलन, उत्प्लावन हाइड्रोस्टैटिक्स(, buoyancy hydrostatics) के साथ-साथ स्टैटिक्स के डोमेन(domains of statics) में काम करना शामिल है।

आर्किमिडीज की उपलब्धियों की विस्तृत सूची के लिए आप नीचे दिया गया वीडियो देख सकते हैं।

निकोला टेस्ला (1856-1943 ई.)

निकोला टेस्ला (1856-1943 ई.)
निकोला टेस्ला (1856-1943 ई.)

1856 में पैदा हुए एक सर्बियाई-अमेरिकी इंजीनियर टेस्ला को प्रत्यावर्ती धारा( alternating current.) के आविष्कार के लिए जाना जाता है।

वास्तव में, टेस्ला कॉइल एक हाई-वोल्टेज ट्रांसफॉर्मर था जो वायरलेस तरीके से बिजली पहुंचाता था।

उन्होंने ऊर्जा की कटाई और इसे ग्रह पर वायरलेस तरीके से स्थानांतरित करने का भी प्रस्ताव रखा।

इस तथ्य के बावजूद कि उनकी अवधारणा विफल रही, टेस्ला एक घरेलू नाम बन गया है।

चार्ल्स डार्विन (1809-1882 ई.)

चार्ल्स डार्विन (1809-1882 ई.)
चार्ल्स डार्विन (1809-1882 ई.)

संदेह और संशयवाद के सामने, अंग्रेजी प्रकृतिवादी और भूविज्ञानी ने विकासवाद की परिकल्पना(hypothesis of evolution.) का प्रस्ताव रखा।

डार्विन ने “ऑन द ओरिजिन ऑफ स्पीशीज़” में अपने निष्कर्ष प्रकाशित करने से पहले दो दशकों से अधिक समय तक साक्ष्य एकत्र किए।

उन्होंने साबित किया कि सभी प्रजातियां सामान्य पूर्वजों से निकली हैं।

इसके अलावा, उन्होंने प्रस्तावित किया कि विकासवादी पैटर्न “प्राकृतिक चयन”(natural selection) की प्रक्रिया पर आधारित था।

रोज़लिंड फ्रैंकलिन (1920-1958 ई.)

रोज़लिंड फ्रैंकलिन (1920-1958 ई.)
रोज़लिंड फ्रैंकलिन (1920-1958 ई.)

फ्रैंकलिन ने डीएनए के घनत्व की खोज की और इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि अणु पेचदार( helical) था।

डीएनए अणुओं के एक्स-रे पैटर्न की स्पष्टता में सुधार करने के उनके काम ने जेम्स वाटसन और फ्रांसिस क्रिक के 1953 के सुझाव के लिए आधार तैयार किया कि डीएनए एक डबल-हेलिक्स पॉलीमर( double-helix polymer) है।

एडा लवलेस (1815-1852 ई.)

एडा लवलेस (1815-1852 ई.)
एडा लवलेस (1815-1852 ई.)

लवलेस ने पहली बार यह पता लगाया कि मशीन का उपयोग केवल गणना से अधिक के लिए किया जा सकता है, और उसने ऐसी मशीन द्वारा निष्पादित करने के लिए डिज़ाइन किया गया पहला एल्गोरिदम( first algorithm) लिखा था।

नतीजतन, उन्हें “कंप्यूटर” और पहले कंप्यूटर प्रोग्रामर की पूरी क्षमता को समझने वाला पहला व्यक्ति माना जाता है।

लुई पाश्चर (1822-1895 ई.)

लुई पाश्चर (1822-1895 ई.)
लुई पाश्चर (1822-1895 ई.)

एक फ्रांसीसी रसायनज्ञ और जीवविज्ञानी पाश्चर ने अपना जीवन रसायन विज्ञान और सूक्ष्म जीव विज्ञान के लिए समर्पित कर दिया।

पाश्चर की खोजों ने लाखों लोगों को संक्रामक रोगों से बचाया।

वह भोजन में सूक्ष्मजीवी किण्वन(microbial fermentation) की जांच करने वाले पहले वैज्ञानिक थे।

इसके अलावा, उन्होंने प्रसवपूर्व बुखार, एंथ्रेक्स, रेबीज और अन्य बीमारियों के उपचार की खोज की।

पाश्चर ने पाश्चराइजेशन विधि (pasteurisation method) भी तैयार की, जो दूध और अन्य पेय पदार्थों को एक विशिष्ट तापमान पर गर्म करके और फिर उन्हें ठंडा करके खतरनाक बैक्टीरिया को नष्ट कर देती है।

उन्होंने यह पता लगाने के बाद यह तरीका तैयार किया कि अल्कोहल खट्टा करने के लिए बैक्टीरिया को दोषी ठहराया जाता है।

सीवी रमन (1888-1970 ई.)

सीवी रमन (1888-1970 ई.)
सीवी रमन (1888-1970 ई.)

श्री सीवी रमन, जिन्हें चंद्रशेखर वेंकट रमन के नाम से भी जाना जाता है, को प्रकाश प्रकीर्णन(light scattering) पर उनके अग्रणी कार्य के लिए 1930 में भौतिकी में नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

उनका जन्म 7 नवंबर, 1888 को तिरुचिरापल्ली में हुआ था, और विज्ञान में नोबेल पुरस्कार प्राप्त करने वाले पहले एशियाई और साथ ही गैर-श्वेत व्यक्ति थे।

रमन ने वाद्य यंत्र ध्वनिकी का भी अध्ययन किया। वह तबला और मृदंगम जैसी भारतीय ड्रम ध्वनियों की हार्मोनिक प्रकृति की जांच करने वाले पहले व्यक्ति थे।

इसके अलावा, उन्होंने देखा कि जब प्रकाश एक पारदर्शी पदार्थ द्वारा विक्षेपित होता है, तो कुछ प्रकाश तरंग दैर्ध्य को बदल देते हैं।

इस घटना को अब रमन प्रकीर्णन( Raman scattering ) के रूप में जाना जाता है और यह रमन प्रभाव( Raman effect) के कारण होता है।

इन घटनाओं के बारे में अधिक जानने के लिए आप नीचे दिए गए वीडियो को देख सकते हैं।

रमन स्पेक्ट्रोस्कोपी के बारे में सब कुछ

अंतिम विचार

कई अन्य वैज्ञानिकों का हमारे जीवन पर बड़ा प्रभाव पड़ा है और वे दुनिया के सर्वश्रेष्ठ वैज्ञानिकों में से हैं।

अलेक्जेंडर फ्लेमिंग ने पहली एंटीबायोटिक पेनिसिलिन की खोज की। एक जर्मन रसायनज्ञ ओटो हैन ने परमाणु विखंडन की खोज की।

फिर एलन ट्यूरिंग हैं, जिनके काम ने संगणना और संगणनीयता के आधुनिक सिद्धांत को स्थापित किया।

यहाँ जिन नामों का उल्लेख किया गया है, उनमें से कुछ ही प्रतिभाशाली दिमाग हैं जिन्होंने विज्ञान और गणित में

योगदान दिया है।

दुनिया के 100 महानतम वैज्ञानिक की सूची के लिए आप नीचे दिए गए दस्तावेज़ को देख सकते हैं।

ऐसी और दिलचस्प जानकारी के लिए पोडियम स्कूल पर जाएँ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.